UPSC Result: सिविल सर्विसेज 2018 का परिणाम जारी, देखें कौन बना यूपीएससी टॉपर

 

नई दिल्लीः यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2018 का फाइनल रिजल्ट शुक्रवार को जारी कर दिया गया. अभ्यर्थी विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट upsc.gov.in पर जाकर अपना परिणाम चेक कर सकते हैं. ज्ञात हो कि यह रिजल्ट सितंबर-अक्तूबर 2018 में आयोजित मेन परीक्षा और फरवरी-मार्च 2019 में आयोजित इंटरव्यू में अभ्यर्थियों के प्रदर्शन के आधार पर जारी किया गया है. कुल 759 अभ्यर्थियों को आयोग द्वारा सफल घोषित किया गया है.

upsc_result_2018_roll_no_toppers_

यूपीएससी परीक्षा में कनिष्क कटारिया ने पहला स्थान प्राप्त किया है. वहीं दूसरे स्थान पर अक्षत जैन और तीसरे स्थान पर जुनैद अहमद रहे. इसके अलावा सृष्टि जयंत देशमुख ने महिला वर्ग में पहला और ओवरऑल रैंकिंग में पांचवा स्थान प्राप्त किया है.

अभ्यर्थियों के मार्क्स, परिणाम घोषित किए जाने के 15 दिनों के अंदर जारी कर दिए जाएंगे. यूपीएससी परीक्षा के टॉप-25 अभ्यर्थियों में 15 पुरुष और 10 महिलाएं शामिल हैं. यूपीएससी परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों का चयन विभिन्न विभागों के लिए हुआ है. इनमें आईएएस में 180, आईएफएस में 30, आईपीएस में 150, सेंटल सर्विसेज ग्रुप ए में 384 और ग्रुप बी सर्विसेज में 68 अभ्यर्थी चुने गए हैं. 

इंटरव्यू तक पहुंचकर वापस लौटने वाले अभ्यर्थियों को भी मिलेगी नौकरी

संघ लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित प्रतियोगी परीक्षाओं को पास कर इंटरव्यू लेवल तक पहुंचकर अंतिम चयन से चूकने वाले अभ्यर्थियों को भी नौकरी का मौका मिलेगा. यूपीएससी के चेयरमैन अरविंद सक्सेना ने केंद्र सरकार के समक्ष प्रस्ताव रखा है कि प्रशासनिक सेवा या अन्य प्रतियोगी परीक्षा के सभी चरणों में पास, इंटरव्यू तक पहुंचकर वापस लौटने वाले अभ्यर्थियों को भी सरकारी मंत्रालयों में आवश्यकता के अनुसार नियुक्त किया जाना चाहिए़. अभी इस प्रस्ताव से संबंधित किसी प्रकार का कोई जवाब सरकार की ओर से नहीं आया है. प्रस्ताव पास होने पर प्रतियोगी परीक्षाओं में छंटे अभ्यर्थियों को भी सरकारी संस्थान में नौकरी का अवसर मिलेगा.

टॉपर्स की सूचि में ये हैं शामिलः

  • कनिष्क कटारिया
  • अक्षत जैन
  • जुनैद अहमद
  • श्रवण कुमात
  • सृष्टि जयंत देशमुख
  • शुभम गुप्ता
  • कर्नाटी वरुणरेड्डी
  • वैशाली सिंह
  • गुंजन द्विवेदी
  • तन्मय वशिष्ठ शर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published.