बीएड, बीटीसी की ख़त्म होने जा रही है मान्यता, 4 साल का यह कोर्स अब बनाएगा सरकारी टीचर

BTC,B. Ed
नई दिल्ली.
अब सरकारी शिक्षक बनने के लिए बीएड, बीटीसी या डीएलएड बनने की जरूरत नहीं पड़ेगी. इसके लिए 12वीं पास करते ही 4 साल का एक इंटीग्रेटेड कोर्स करना होगा. इसके लिए राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (NCTE)ने 2 नए कोर्स लॉन्च किए हैं. इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशन प्रोगाम (ITEP) कोर्स 4 साल का होगा. NCTE ने एक नोटिफिकेशन जारी कर 2019-23 के लिए ITEP कोर्स जलाने के इच्छुक शिक्षण संस्थानों से ऑनलाइन आवेदन मंगाए हैं। संस्थान 3 दिसंबर से लेकर 31 दिसंबर तक आवेदन कर सकते हैं।

बीटीसी, डीएसएड या फिर बीएड  की जरूरत नहीं

अभी तक प्री प्राइमरी से प्राइमरी स्तर तक की कक्षाओं में पढ़ाने के लिए डीएलएड जरूरी था। वहीं, अपर प्राइमरी से सेकेंडरी स्तर तक के स्कूलों में अध्यापन कार्य के लिए बीएड करना अनिवार्य था। हलांकि यूपी जैसे राज्य बीएड धारकों को   प्राइमरी स्तर तक की कक्षाओं के लिए भी शिक्षक बनने का मौका देते थे. हालांकि NCTE अब 4 साल का इंटिग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम (ITEP) शुरू करने जा रहा है. मतलब साफ है कि अब प्राइमरी, अपर प्राइमरी या इंटरमीडिएट में पढ़ाने के लिए अभ्यर्थियों को अब बीटीसी, डीएसएड या फिर बीएड का कोर्स करने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

ITEP के तहत 2 तरह के प्रोग्राम

एक आईटीईपी प्री प्राइमरी से प्राइमरी स्तर तक पढ़ाने के लिए होगा, जबकि दूसरा आईटीईपी कोर्स अपर प्राइमरी से सेकेंडरी स्तर तक पढ़ाने के लिए होगा। दोनों ही पाठ्यक्रमों की अवधि चार वर्ष की होगी और इनमें 12वीं के बाद दाखिला मिलेगा। इन पाठ्यक्रमों के लिए ग्रेजुएशन की जरूरत नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.