पूर्व गृह राज्य मंत्री एवं भाजपा नेता स्वामी चिन्मयानंद पर आरोप लगाने वाली विधि की छात्रा की पहुंची कोर्ट

swami

पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ उत्पीड़न के आरोप लगाने के बाद गुमशुदा हुई एलएलएम की छात्रा उच्चतम न्यायालय पहुंची. इस छात्रा को पुलिस ने राजस्थान से बरामद किया. छात्रा को लेकर उत्तर प्रदेश पुलिस ने सर्वोच्च न्यायालय पहुंची.

सर्वोच्च न्यायलय के न्यायमूर्ति न्यायाधीश आर भानुमति और न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना की पीठ ने भोजनावकाश से पहले उत्तर प्रदेश पुलिस को निर्देश देते हुए कहा था कि इस छात्रा को आज ही न्यायालय में पेश किया जाये. इसके साथ ही पीठ ने छात्रा से बातचीत करने के बाद ही अपना आदेश पारित करने की बात कही.

विदित हो कि स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय के एलएलएम की जिस छात्रा ने स्वामी चिन्मयानन्द पर अपहरण का केस दर्ज कराया था. उसकी तलाश में बरेली जोन के अपर पुलिस महानिदेशक अविनाश चन्द्र ने बताया कि उसकी लोकेशन दिल्ली के द्वारका इलाके में स्थित एक होटल में मिल रही है | यू.पी. के शाहजहाँपुर जिले से गायब यह लड़की अपनी माँ के पास द्वारका के पास से ही एक नंबर से फोन किया था | फोन पर उसने अपनी माँ से बताया की वह कहीं पर आई हुई है | लड़की के साथ एक लड़के का भी होना बताया जा रहा है | यह लड़का भी उसी विधि  महाविद्यालय का लॉ का छात्र रह चुका है |

लड़की की लोकेशन पता चलने पर जब पुलिस टीम  वहाँ पर पहुँची तब तक लड़की उस होटल से जा चुकी थी | फिर भी जब तक लड़की नहीं मिल जाती है तब तक कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी | कहा तो यह भी जा रहा है कि हो सकता है लड़की उसी लड़के के ही बहकावे में न आकर दिल्ली गई हो |

इधर लड़की के पिता ने भी बताया कि 23 अगस्त को वीडियो वायरल होने पर जब उन्होंने पता लगाया तो पता चला कि होस्टल में उनकी लड़की के कमरे में ताला लगा है | वहीँ स्वामी चिन्मयानन्द के वकील ओम सिंह ने भी बताया कि लड़की की लोकेशन और सीसी फुटेज देखने से पता चलता है कि लड़की किसी लड़के के साथ में है |

आपको जानकारी के लिए बता दें कि 2011 में भी स्वामी चिन्मयानन्द के ऊपर उनके आश्रम की ही एक लड़की ने रेप का आरोप लगाया था | जिसमें चिन्मयानन्द के ऊपर 30 नवम्बर 2011 को शाहजहांपुर की कोतवाली में रेप की एफआईआर दर्ज की गई थी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *